यूपी की इस यूनिवर्सिटी ने बीए, बीएससी, बीकॉम फाइनल ईयर के फेल छात्रों को किया पास

यूपी की इस यूनिवर्सिटी ने बीए, बीएससी, बीकॉम फाइनल ईयर के फेल छात्रों को किया पास

WWW.SARKARIJOBUP.IN

आप स्टूडेंट्स है ज्वाइन करे

Join FREE Job Alert Group
For Telegram For WhatsApp
 FaceBoo k
Army Group Join 

बीए, बीएससी व बीकॉम अंतिम वर्ष में फेल हुए करीब 10 हजार छात्र-छात्राओं को छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविद्यालय ( सीएसजेएमयू ) ने अतिरिक्त अंक देकर पास कर दिया है। दो से 10 अंक की कमी के कारण फेल हो रहे छात्रों को विश्वविद्यालय ने यह लाभ दिया है। यह पहला मौका है, जब विश्वविद्यालय ने फेल वालों को लाभ देने के लिए मॉडरेशन प्रणाली लागू की है। कोरोना संक्रमण और पेपर के बदले पैटर्न को देखते हुए छात्रहित में यह फैसला लिया गया है।

सीएसजेएमयू के परीक्षा नियंत्रक डॉ. अंजनी कुमार मिश्र, डीन प्रशासन प्रो. सुधांशु पांडिया व सह मीडिया प्रभारी डॉ. विवेक सचान ने बुधवार को प्रेसवार्ता की। विभिन्न पाठ्यक्रमों के रिजल्ट में गड़बड़ी को लेकर आ रही शिकायतों व उसके निस्तारण के बारे में पूरी जानकारी दी। कहा, मूल्यांकन सही ढंग से हुआ है। स्नातक में संस्कृत, अंग्रेजी, राजनीति विज्ञान, साइकोलॉजी, प्राचीन इतिहास व सोशियोलॉजी के अलावा एमकॉम के प्रथम व द्वितीय पेपर की आंसर-की में कुछ त्रुटियां थीं, जिसे ठीक कराकर अपडेट रिजल्ट जारी किया गया है।

डॉ. मिश्र ने बताया कि कोरोना संक्रमण जैसी विषम परिस्थिति को देखते हुए कुलपति ने मॉडरेशन प्रणाली लागू करने का फैसला लिया था। इसके तहत दो से लेकर 10 अंक तक अतिरिक्त दिए गए हैं। इसका लाभ सिर्फ फेल हो रहे छात्रों को नहीं बल्कि उस विषय के सभी छात्रों को दिया गया है। आंसर-की में एक्सपर्ट की गलती के कारण कुछ छात्रों का रिजल्ट गड़बड़ हुआ था। बीए में अकेले करीब 11 हजार फेल छात्रों में अब 7 छात्र पास हो गए हैं।

 

सीएसजेएमयू के परीक्षा शुल्क में 15 फीसदी कटौती
सीएसजेएमयू ने स्नातक व परास्नातक के लिए निर्धारित नए परीक्षा शुल्क में 15 फीसदी की कटौती की है। अब स्नातक के छात्रों को 585 रुपये प्रति सेमेस्टर और परास्नातक के छात्रों को 710 रुपये प्रति सेमेस्टर परीक्षा शुल्क देना होगा। मौखिक का 100 रुपये प्रति सेमेस्टर शुल्क अलग से है। हालांकि यह कटौती सिर्फ सत्र 2021-22 में ही लागू होगी। सीएसजेएमयू में परीक्षा शुल्क समेत अन्य को लेकर छात्रों के साथ कानपुर विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (कूटा) के महामंत्री डॉ. अवधेश सिंह, कानपुर विश्वविद्यालय स्ववित्तपोषित शिक्षक संघ के अध्यक्ष डॉ. कमलेश यादव व महामंत्री डॉ. अखंड प्रताप सिंह मांग कर रहे थे कि कोरोना काल में फीस कटौती की जानी चाहिए। विवि के रजिस्ट्रार डॉ. अनिल कुमार यादव ने बताया कि स्नातक व परास्नातक के शैक्षिक सत्र 2021-22 के लिए कटौती युक्त शुल्क लिया जाएगा। वहीं पीएचडी कोर्स वर्ग के लिए पंजीकृत कराने वाले छात्रों से भी पूर्व वर्ष की भांति ही शुल्क लिया जाएगा। अगले सत्र से नया पुनरीक्षित शुल्क छात्रों से लिया जाएगा।

All University Results Declare 2021 

Leave a Comment

Your email address will not be published.