Odisha Train Accident Live » ट्रेन हादसे को लेकर खुद ड्राइवर ने खोले बड़े राज , Odisha Train Accident: ओडिशा के बालासोर रेल हादसे Railway

Odisha Train Accident Live » ट्रेन हादसे को लेकर खुद ड्राइवर ने खोले बड़े राज

Join WhatsApp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Odisha Train Accident Live » ट्रेन हादसे को लेकर खुद ड्राइवर ने खोले बड़े राज अभी-अभी आई बेहद बड़ी खबर आपको बता दें कि उड़ीसा के बालासोर जिले में हुए दर्दनाक ट्रेन हादसे में 275 लोगों की जान चली गई है जबकि हजार से ज्यादा यात्री घायल हो गए हैं इस बार संवाददाता न्यूज़ में बताया जा रहा है कि रेलवे बोर्ड ने मामले की सीबीआई से जांच करवाने की सिफारिश कर दी है हादसे में शामिल दो ट्रेन के ड्राइवर लोको पायलट और गार्ड घायल हो गए हैं जिनका इलाज चल रहा है अब हादसे भी तुरंत बाद जुड़ी एम जानकारी सामने आई है कि कोरोमंडल एक्सप्रेस के ड्राइवर में ट्रेन हादसे आखिर केसे हुआ

रेलवे बोर्ड के अधिकारी जया वर्मा सिन्हा ने बताया कि ट्रेन हादसे के महज 15 मिनट बाद मुझे निजी तौर पर जानकारी मिल गई थी जिसके बाद dg4 बार रूम में पूर्व मंडल एक्सप्रेस के ड्राइवर लोको पायलट से बात की बहुत समय तक होश में था उसने बताया कि उसे सिग्नल ग्रीन मिला था उसके बाद से उसके उसे सिग्नल ग्रीन मिला था। उसके बाद से उसकी हालत गंभीर है और वह अस्पताल में भर्ती है। दूसरी ट्रेन यशवंतपुर एक्सप्रेस के ए1 के टीटी से भी बात हुई। उन्होंने मुझे बताया कि पीछे से जोर की आवाज सुनाई दी। जब देखा तो उसे लगा कि पीछे कुछ आ रहा है। ए-1 के पीछे वाले दो डिब्बे ट्रेन से 

Train Accedent दो ट्रेनों के ड्राइवर और गार्ड घायल

रेल हादसे में दोनों रेलगाड़ियों के ड्राइवर और गार्ड घायल हैं और उनका विभिन्न अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है। ओडिशा के बालासोर जिले में शुक्रवार शाम कोरोमंडल एक्सप्रेस और बेंगलुरु-हावड़ा एक्सप्रेस ट्रेन के पटरी से उतरने और एक मालगाड़ी से टकराने से जुड़े रेल हादसे में मृतक संख्या बढ़कर 275 हो गई। अधिकारी ने बताया कि हालांकि मालगाड़ी का इंजन चालक और गार्ड बाल-बाल बच गए। उन्होंने बताया कि घायल सूची में कोरोमंडल एक्सप्रेस के लोको पायलट और उनके सहायक के साथ-साथ गार्ड और बेंगलुरु-हावड़ा सुपरफास्ट एक्सप्रेस के गार्ड शामिल हैं। दक्षिण पूर्व रेलवे के खड़गपुर मंडल के वरिष्ठ मंडल वाणिज्यिक प्रबंधक राजेश कुमार ने कहा, ”कोरोमंडल एक्सप्रेस के लोको पायलट, सहायक लोको पायलट तथा गार्ड और बेंगलुरु-हावड़ा एक्सप्रेस के गार्ड का अलग-अलग अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है।” रेल मंत्रालय ने इस हादसे के कारणों का पता लगाने के लिए उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं।”

इंटरलॉकिंग प्रणाली से छेड़छाड़ की संभावना का संकेत
उधर, रेलवे ने ओडिशा ट्रेन हादसे में संभावित तोड़फोड़ और इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग प्रणाली से छेड़छाड़ का संकेत दिया। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि दुर्घटना के असल कारण का पता लगा लिया गया है और इसके लिए जिम्मेदार अपराधियों की पहचान कर ली गई है। बालासोर जिले में दुर्घटनास्थल पर उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “यह (हादसा) इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग और प्वाइंट मशीन में किए गए बदलाव के कारण हुआ।” दिल्ली में रेलवे के शीर्ष अधिकारियों ने बताया कि ‘प्वाइंट मशीन’ और इंटरलॉकिंग प्रणाली कैसे काम करती हैं। उन्होंने कहा कि प्रणाली त्रुटि रहित और विफलता में भी सुरक्षित (फेल सेफ) है। अधिकरियों ने बाहरी हस्तक्षेप की संभावना से इनकार नहीं किया।

Join WhatsApp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now